Close

पश्चिमी पोस्टरल योग: योग के नाम पर मुद्राओं को बढ़ावा

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
पश्चिमी पोस्टरल योग: योग के नाम पर मुद्राओं को बढ़ावा
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

योग अनिवार्य रूप से हठ योग, पोस्टरल योग अभ्यास और तकनीकों, आसन-आधारित कक्षाओं से कहीं अधिक है।

योगासन का अभ्यास, उचित पृष्ठभूमि के साथ, योग-ज्ञान की गहरी आध्यात्मिक अनुभूतियों का प्रवेश द्वार हो सकता है या फिर योगासन महज एक अभ्यास, एरोबिक्स और जिमनास्टिक का एक रूप हो सकता है। सिर्फ फिटनेस, कल्याण और शारीरिक सौंदर्य का लक्ष्य लेकर किया गया आसन का शारीरिक अभ्यास (किसी भी शैली का), योग नहीं है!

हालांकि, पश्चिमी देशों के आजकल के “योग” में इस तथ्य को पूरी तरह नजरअंदाज कर दिया गया है! आइए हम संयुक्त राज्य अमेरिका में “योग” का वर्तमान परिदृश्य देखें। अकेले संयुक्त राज्य अमेरिका में 35 लाख से अधिक लोग “योग” का अभ्यास कर रहे हैं। “योग” के नाम पर एक अरब अरब डॉलर का कारोबार चल रहा है। 1,00,000 से अधिक योग प्रशिक्षक और हजारों लोग हर साल “योग” सिखाने के लिए “योगा अलायन्स” नामक एक प्रमाणन एजेंसी से प्रमाण पत्र प्राप्त कर रहे हैं। “बीयर योग”, “बकरी के साथ योग”, “योग, शराब और चॉकलेट”, योग के नाम पर नए प्रकार के अभ्यास करने के कुछ उदाहरण हैं!

पश्चिमी दुनिया में योग का इतिहास

पश्चिमी दुनिया को योग से अवगत करने में सबसे पाहे 1 9 02 में स्वामी राम तीर्थ, 1 9 20 में परमहंस योगानंद और ऋषिकेश के स्वामी शिवानंद के कुछ शिष्य थे| इन शिक्षकों ने योग के आध्यात्मिक पहलुओं पर जोर दिया। उन्होंने वेदांत को आत्म-ज्ञान के दर्शन के रूप में बताया और योग को इसे प्राप्त करने का एक साधन के रूप में प्रस्तुत किया।

दुर्भाग्यवश, पिछले कुछ दशकों में, भौतिक मुद्राओं, आसनाभ्यास चलन में आ गया है, और योग का मूल दर्शन भुला दिया गया है। बी.के.एस आयंगर, के. पट्टाभी जोइस, टी. कृष्णमचार्य और स्वामी सच्चिदानंद जैसे योग गुरुओं ने पश्चिम में उनके छात्रों का वेदांत की शिक्षाओं के माध्यम से योग दर्शन को समझना अनिवार्य कर दिया है। पहले इन गुरुओं द्वारा प्रशिक्षित योग शिक्षकों को कठोर प्रशिक्षण से गुजरना पड़ता था, न कि केवल विभिन्न आसन, प्राणायाम, क्रिया या बंध सीखना, बल्कि योग और दर्शन की पूरी प्रणाली को समझना पड़ता था , जो शारीरिक अभ्यास के एक माध्यम यानि ‘आसन’ द्वारा जीवंत रहता था।

हालांकि, वर्तमान में संयुक्त राज्य अमेरिका में 200, 300 या 500 घंटे का शिक्षक प्रशिक्षण पाठ्यक्रम, ऑनलाइन शिक्षक प्रशिक्षण और अन्य विशेष शिक्षक प्रशिक्षण कार्यक्रमों में योग दर्शन की शिक्षाओं को गहरे से समझने का वक्त ही नहीं है या फिर उचित साधन या विशेषज्ञता नहीं है।

इसमें कई अन्य विरोधाभासी हित भी कार्य कर रहे हैं, जैसे पूर्वी दुनिया के शास्त्र आधारित शिक्षाओं के खोज में प्रतिरोध, त्वरित और तेज़ गति से पैसे, नाम और प्रसिद्धि कमाने का प्रोत्साहन। ऐसे और कई अन्य कारणों ने महत्वपूर्ण दर्शन ज्ञान के प्रशिक्षण के लिए समय खर्च करने से कई शिक्षक प्रशिक्षण कार्यक्रमों को प्रभावित किया है।

कई योग-शिक्षक प्रशिक्षण कार्यक्रम योग की प्रामाणिक शिक्षाओं को कम,  अनदेखा या क्षीण कर देते हैं। “नमस्ते” और “ओम” जैसे कुछ संस्कृत शब्दों के उपयोग से शारीरिक अभ्यास, जो अक्सर जिमनास्टिक या एक्रोबेटिक्स के समानहोते हैं, “योग” अभ्यास में बदल जाते हैं! आध्यात्मिक शब्द जैसे “लव”, “डिवाइन” “नो योर ट्रुथ” के अलावा भी दूसरे शब्द शारीरिक अभ्यास में ही सम्मिलित हैं|  अनिवार्य रूप से, हालाँकि, योग की शिक्षाओं का आध्यात्मिक पहलू किनारे कर दिया गया है। नतीजा यह है कि आज बहुत कम योग शिक्षक (और इसके परिणामस्वरूप हठ योग चिकित्सक) योग-वेदांत या योग दर्शन के सार के बारे में जानते हैं।

यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि “योग क्या है?”, और इससे जुड़े अन्य शब्दावली के बारे में भी बहुत भ्रम है। उदाहरण के लिए, कई लोग पतंजलि द्वारा प्रस्तुत अष्टांग योग और हठ योग की अष्टांग शैली के बीच अंतर नहीं जानते हैं। योगाभ्यास में भगवत गीता (दैनिक जीवन में योग कैसे लागू किया जाता है) के अध्ययन के महत्व के बारे में अज्ञानता है।

दुर्भाग्य से उच्चारण की गलतियाँ आम हैं, “आसन” को “आसाना” के रूप में उच्चारित किया जाता है, “आज्ञा” कुछ स्पेनिश वक्ताओं द्वारा “आजना” या यहां तक ​​कि “आहना” के रूप में उच्चारित किया जाता है। “चक्र” शब्द को अक्सर “शक्रा” के रूप में उच्चारण किया जाता है। “योग” के नाम पर एक नई गड़बड़ भाषा फ़ैल रही है! संस्कृत एक बहुत ही सटीक भाषा है। यदि गलत तरीके से उच्चारण किया गया है, तो शब्द का कोई अर्थ नहीं है या इच्छा से अलग अर्थ भी हो सकता है। उदाहरण के लिए, मल(कचरा) बनाम माला (धागा, फूल का हार) और बहुत कम योग शिक्षकों और चिकित्सकों को योग की भाषा के इन मूलभूत बातों की जानकारी है!

यदि कोई खुद को “योगी” कहलाता है, या “योग” सिखाता है तो उसे कम से कम बुनियादी स्तर पर शब्दावली और शब्दावली के उपयुक्त उच्चारण को समझना चाहिए। योग के उच्च लक्ष्यों के बारे में प्रासंगिक योग शब्दों, उनके उच्चारण, समझ और जागरूकता का उपयोग किसी भी व्यक्ति के लिए, जो योग को पढ़ाना चाहता है  प्राथमिक-आवश्यकता होना चाहिए, भले ही कोई योग अभ्यास के भौतिक पहलू-योगासन को ही क्यों न सिखाना चाहता हो।

जो योग को सिखाता है उसे योग और योगिक ज्ञान की मूल बातों की समझ अच्छी तरह होनी चाहिए। एक योग प्रशिक्षक की अभिरुचि योग दर्शन में हो भी सकती है या नहीं भी या आसन आधारित कक्षा में योग दर्शन को पढ़ाने में सहमत नहीं हो, लेकिन जब कोई स्वयं को योगी या योग शिक्षक कहता है, तो उसे उम्मीद है कि उसे योग का सम्पूर्ण ज्ञान होना चाहिए। यद्यपि उसने शायद शुरुआती उम्र से संस्कृत नहीं सीखा है, पर अगर कोई योग सिखा रहा है, तो उसे सरल हठ योग से संबंधित शब्दों को सही ढंग से उच्चारण में सक्षम होना चाहिए और इन शब्दों के अर्थ को जानना चाहिए।

पश्चिमी में विज्ञान शिक्षक या बैले प्रशिक्षक से उचित और सर्वांगीण प्रशिक्षण की अपेक्षा क्यों की जाती है, जबकि योग प्रशिक्षक से ऐसी अपेक्षा नहीं की जाती? क्या ऐसा इसलिए है क्योंकि कोई प्रमाणिक प्राधिकरण इसकी मांग नहीं करता?

योग की समृद्ध परंपरा को भूल जाना और इसकी हजारों साल पुरानी विरासत और जड़ों से अलग होने को क्यों स्वीकार किया जा रहा है?

परंपरानुसार, योग विज्ञान आदियोगी भगवान शिव द्वारा ऋषियों को दिया एक दिव्य उपहार था जिससे मानव जाति अपने दिव्य प्रकृति को समझ सके। गुरु-शिष्य(छात्र) परम्परा (वंशावली) के माध्यम से, यह ज्ञान सदियों से प्रामाणिक शिक्षाओं के रूप में आगे बढ़ता रहा है।

अनिवार्य रूप से, योग, हठ योग, पोस्टरल योगाभ्यास और तकनीक, आसन-आधारित कक्षाओं से कहीं अधिक है। दुर्भाग्यवश, योग का उपयोग अब इसके अन्य प्रभावों (शारीरिक फिटनेस और कल्याण) के लिए किया जा रहा है, जबकि इसका वास्तविक लक्ष्य – आध्यात्मिक ज्ञान – को दरकिनार कर दिया गया है।

दुर्भाग्यवश, जो पश्चिम में हो रहा है भारत में कई लोगों द्वारा अनुकरण किया जा रहा है। “योग” के पश्चिमी संस्करण और इसका वाणिज्यीकरण का पालन करने वाले भारतीय क्यों हैं? क्या हम में से उन लोगों को, जो योग दर्शन के बारे में जानते हैं, क्षीण होती और लुटती भारतीय परंपराओं और विरासत के खिलाफ आवाज़ नहीं उठानी चाहिए?

यदि आज योग दर्शन और भाषा की मूल बातें समझने में गंभीर समस्या है, तो हम अपनी भविष्य की पीढ़ियों तक, केवल “योग”, जिस आध्यात्मिक अभ्यास का मूल सार अलग कर दिया गया हो, नामक एक शारीरिक व्यायाम नियम ही सौंपने वाले हैं । आज हमारे फैसलों के नतीजे भविष्य की पीढ़ियों के जीवन को प्रभावित करेंगे। चुनाव हमारा है।

The article has been translated from English into Hindi by Satyam.

Featured Image: English Article

Disclaimer: The facts and opinions expressed within this article are the personal opinions of the author. IndiaFacts does not assume any responsibility or liability for the accuracy, completeness,suitability,or validity of any information in this article.
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •